मैं कभी रुका नहीं by Anuj pareek

anujमैं कभी रुका नहीं
यू ही चलता गया
लाख कोशिशो के बावजूद मिली सफलता
लेकिन मैं क भी थका नहीं
मैं कभी रुका नहीं , यू ही चलता गया
राह में आती रही परेशानियां अनेक
सब मुश्किलों को आसा करते हुए
मैं यू ही चलता गया
बनाता रहा मैं खुद ही अपनी राहे
परेशानियों को चीर हर मुकाम को पाता रहा
जबजब भी छाये परेशानियों के बादल
मैं साँझ बनकर गाता रहा
मैं कभी रुका नहीं
यू ही चलता गया

24 Comments

Add Yours

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *