नारी

क्यूँ सहती हैं नारी 

              अनाचार भारी 

              शायद इसलिए कि उसने टूटकर भी,

              नहीं सीखा हैं टूटना। 

              लेकिन मन में एक अहम् सवाल कौंधता हैं 

              कि कब तक टूटी रहेगी और सहेगी 

              इसी तरह नारी। 

              वो टूटकर भी कण कण जोड़ती हैं। 

              सबको जोड़कर गलत को भी 

              सही राह पर मोड़ती हैं। 

              बिखरे परिवार और समाज को  

               तिल तिल जोड़ती हैं नारी 

               फिर उसके मन को क्यों नहीं 

               समझता कोई। 

              नारी की दुश्मन बन रही नारी आज 

              क्यों उसके सपने नहीं हो 

              पाते  साकार। 

              क्यों हैं वो लाचार। 

              क्यों उसे नहीं बनने दिया जाता 

              उन्मुक्त  आकाश। 

              क्यों उड़ने के पहले ही काट 

              दिए जाते हैं उसके पंख। 

              उसकी एक गलती होती हैं.

              हज़ार  के बराबर। 

              क्यों उसको  सब कुछ 

              चुप रहने के  लिए,

              किया जाता  हैं  बाध्य। 

              क्यूँ होता हैं ये  भेद विभेद 

              कौंधता हैं मन  में यह  सवाल 

              हमेशा हमेशा। 

              लेकिन आज की नारी बना रही 

              अपनी पहचान 

              पार कर रही बाधाओं को 

              भर रही एक ऊँची उड़ान 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *